ऑनलाइन पढ़ाई के फायदे एवं नुकसान

“ऑनलाइन शिक्षा” पठन-पाठन को वो तरीका है जिसमें शिक्षा ग्रहण-प्रदान करते समय शिक्षक और छात्र अलग-अलग स्थान पर होते हैं, तथा इन्टरनेट और कंप्यूटर/मोबाइल के जरिये एक दूसरे से संपर्क में होते हैं। आम तौर पर हर चीज़ के दो पहलु होते हैं ठीक वैसे ही ऑनलाइन पढाई के भी कई फायदे और नुकसान हैं। आइए जानते हैं विस्तार से ऑनलाइन पढ़ाई के फायदे एवं नुकसान के बारे में ।

ऑनलाइन पढ़ाई के फायदे एवं नुकसान
ऑनलाइन पढ़ाई के फायदे एवं नुकसान

ऑनलाइन पढ़ाई (Online Study) क्या है ?

ऑनलाइन पढ़ाई कुछ और नहीं सिर्फ़ एक पढ़ाई का माध्यम है जिसमें छात्र Technology का सहारा लेकर अपनी सहूलियत के अनुसार घर, दफ़्तर, दुकान या गार्डन में कही पर भी रहते हुए विभिन्न माध्यम जैसे विडीओ, ईबुक, ऑडीओ बुक आदि के माध्यम से शिक्षा प्राप्त करते है।

ऑनलाइन पढ़ाई का अस्तित्व नया नहीं है यह कई वर्षों से या यूँ कहें कि जब से इंटर्नेट अस्तित्व में आया हैं उसके कुछ वर्ष पश्चात से ही चल रही हैं । हालाँकि हमारे देश में Covid-19 के प्रकोप के कारण इसका चलन ज़्यादा बढ़ गया है ।

ऑनलाइन पढ़ाई (Online Study) के फ़ायदे एवं नुक़सान

जिस तरह एक सिक्के के दो पहलू होते है ठीक उसी तरह हर चीज़ के फ़ायदे एवं नुक़सान दोनों ही होते हैं । ऑनलाइन शिक्षा के भी अपने ही फ़ायदे हैं तो वही इसके कई नुक़सान भी हैं जो हम आगे इसी पोस्ट में विस्तार से पढ़ेंगे ।

ऑनलाइन पढ़ाई (Online Study) के फ़ायदे

ऑनलाइन पढ़ाई के असंख्य फ़ायदों में से एक यह है की आप किसी भी समय किसी भी जगह से अपनी पढ़ाई जारी रख सकते हैं, आप किसी बंधन में नहीं होते है की जो शिक्षक ने पढ़ाया वही पढ़ना हैं । आप अपने पुराने अध्यायों को कई बार दोहरा सकते हैं साथ ही कोई विषय पूरी तरह समझ आ जाने पर आप आगे भी बढ़ सकते है जो एक पारम्परिक कक्षा में होते हुए असम्भव है ।

ऐसे व्यक्ति जो कही जॉब कर रहे हैं और उनके पास किसी स्कूल या कॉलेज में जाकर पढ़ने का समय नहीं है वे ऑनलाइन शिक्षा के माध्यम से काफ़ी लाभान्वित हो सकते है, ऐसे कई कोर्स आज ऑनलाइन उपलब्ध है जो घर बैठे कर सकते हैं । साथ ही वे माता पिता जो अपने बच्चों पर अधिक ध्यान नहीं दे पाते वे भी ऑनलाइन शिक्षा के माध्यम से अपने छात्रों पर भी विशेष ध्यान दे सकते हैं एवं वे खुद भी इसका लाभ ले सकते है ।

टेक्नॉलजी की मदद से आज हमारे बीच कई सारे विडीओ, ऐनिमेशन, स्लाइड आदि एडिटिंग तकनीक है जो किसी भी विषय को पारम्परिक कक्षा में बैठकर समझने से जल्दी और आसानी से सिखने में मदद करते है। चूँकि नई पीढ़ी के छात्रों की रुचि टेक्नॉलजी में अधिक होने के कारण उन्हें इस तरह से पढ़ना एवं समझना आसान लगता है और वे उसे लम्बे समय तक याद रख पाते है ।

ऐसे ही कई सारे फ़ायदे हैं ऑनलाइन पढ़ाई के । आइए जानते हैं इसके नुक़सान के बारे में ।

ऑनलाइन पढ़ाई (Online Study) के नुक़सान

एक छात्र के लिए सबसे ज्यादा जरुरी होता है अध्ययन में रुचि विकसित करना। ऑनलाइन शिक्षा में ऐसा ही होता है। उनके पास अध्ययन की सामग्री होगी लेकिन कोई वास्तविक रुचि नहीं होगी। पारंपरिक तथा भौतिक शिक्षक में रुचि पैदा करने और आपको विषय के प्रति मार्गदर्शन करने और आपको सीखने की क्षमता होती है।

ऑनलाइन शिक्षा के कई नुकसान हैं जिसमें से एक है सहपाठी (मित्रों) की कमी । एक व्यक्ति उस कंपनी से बना होता है जिसे वह अपने साथ जोड़ता है । अगर छात्र अपने मित्रों से रोज़ मिलते हैं उनका एक ग्रूप बना है तो यह पढ़ाई में अधिक रुचि पैदा करता है और अध्ययन में जागरूकता पैदा करता है।

व्यावहारिक अनुभव को सर्वश्रेष्ठ शिक्षक कहा जाता है। ऑनलाइन शिक्षा में ज्यादातर व्यावहारिक अनुभव का अभाव है। इसके बजाय, उनके पास एनिमेटेड वीडियो और आभासी प्रस्तुतियाँ हैं। लेकिन यह व्यावहारिक स्पर्श बेहतर स्मृति, गहरी समझ और अध्ययन के लिए रुचि से छात्रों को दूर करता है।

ऑनलाइन शिक्षा के लिए कंप्यूटर पर बैठने से कुछ स्वास्थ्य संबंधी बाधाएं हैं। आंखों में तनाव, शारीरिक परिश्रम की कमी के कारण तनाव की संभावनाएं हैं आदि का डर बना रहता हैं जो एक एक बहुत ही बड़ा नुक़सान हो सकता हैं ।

अनुशासन स्कूल में पढ़ाए जाने वाले प्रमुख गुणों में से एक है। स्कूल की गतिविधियों में भाग लेने, दैनिक प्रार्थना में सम्मिलित होने एवं हर कक्षा का एक समय निर्धारित होने से बच्चों में अनुशासन का भाव आता है जो की ऑनलाइन पढ़ाई में असम्भव है ।

तो दोस्तों यह थे कुछ “ऑनलाइन पढ़ाई के फायदे एवं नुकसान” हमें उम्मीद है कि आपको आज की हमारी यह पोस्ट ज़रूर पसंद आई होगी । अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई तो इसे अपने दोस्तों में share करें एवं हमें social media FacebookYoutube पर ज़रूर follow करें । धन्यवाद !