दौड़ (Running) में करियर कैसे बनाएँ

नमस्कार दोस्तों! careerinhindi.com में आपका स्वागत है। अभी तक हमने एकैडमिक करियर से सम्बंधित कई महत्वपूर्ण जानकारी पोस्ट की आज की हमारी पोस्ट “दौड़ (Running) में करियर कैसे बनाएँ” के माध्यम से आपके स्पोर्ट्स करियर को मनचाही उड़ान देने में निश्चित ही मदद मिलेगी पूरी जानकारी के लिए पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े ।

दौड़ (Running) में करियर कैसे बनाएँ

दौड़ (Running) में करियर कैसे बनाएँ
दौड़ (Running) में करियर कैसे बनाएँ

दोस्तों, लोगों के लिए कोई भी खेल एक रोमांचक और स्वस्थ मनोरंजन का जरिया रहा है, लेकिन अगर दौड़ लगाना आपके लिए वास्तव में आपका जुनून है तो यह बहुत ही फायदेमंद और संतोषजनक करियर हो सकता है। जिसे पारंपरिक रूप से एक शौक के रूप में माना जाता है, वो आपके कैरियर का विकल्प बन सकता है।

दौड़ (Running) में करियर

खेल से जुड़ी गतिविधि आपके शरीर को शारीरिक रूप से स्वस्थ बनाने और मन को अच्छा रखने में आपकी मदद करते हैं। यदि आप खेल को करियर के रूप में चुनते हैं, तो यह बहुत प्रसिद्धि और पैसा भी देता है। आप किसी भी खेल के क्षेत्र में अपना करियर बना सकते हैं जो इस बात पर निर्भर करता है कि आप अपनी विशेषज्ञता किन खेलों में है। एक धावक के रूप में करियर में अनंत संभावनाएं हैं। भारत के सफल धावक चाँद राम, बहादुर सिंह चौहान, एम. डी. वल्सम्मा, हिमा दास, गीता, राम सिंह यादव, दुती चंद इत्यादि धावकों ने कई बार देश का मान बढाया है।

धावक (Runner) बनने के लिए पाठ्यक्रम क्या है?

एक एथिलीट के रूप में, आप भारतीय खेल प्राधिकरण के विभिन्न संस्थानों से प्रशिक्षण प्राप्त कर सकते हैं। भारत में, भारतीय खेल प्राधिकरण (SAI) के तहत विभिन्न संस्थान और अकादमियां हैं जो युवा प्रतिभाओं को प्रतिभाशाली प्रशिक्षण प्रदान करते हैं। SAI के अलावा, कई राज्य स्तर और निजी संगठन हैं जो खेल के प्रति युवा उत्साह का समर्थन करते हैं। आप खेल चिकित्सा, स्पोर्ट्स कोचिंग, खेल प्रबंधन, खेल विज्ञान आदि में डिप्लोमा, स्नातक, स्नाकोत्तर तथा पीएचडी तक की पढाई कर सकते हैं।

किन संस्थानों में स्पोर्ट्स संबंधित पाठ्यक्रम पढाया जाता है?

देश में ऐसे मर्यादित संस्थान हैं जो स्पोर्ट्स में कई तरह के पाठ्यक्रम करवाते हैं जैसे- नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ स्पोर्ट्स, पटियाला, इंदिरा गांधी शारीरिक शिक्षा और खेल विज्ञान संस्थान, नई दिल्ली, लक्ष्मीबाई राष्ट्रीय शारीरिक शिक्षा संस्थान, ग्वालियर, लक्ष्मीबाई नेशनल कॉलेज फॉर फिजिकल एजुकेशन, तिरुवनंतपुरम, टाटा फुटबॉल अकादमी, जमशेदपुर, राष्ट्रीय क्रिकेट अकादमी, बैंगलोर, दिल्ली विश्वविद्यालय इत्यादि।

स्पोर्ट्स सम्बंधित पाठ्यक्रम के लिए न्यूनतम योग्यता क्या है?

अगर आप एक धावक के तौर पर अपना करियर बनाना चाहते हैं तथा ऐसे पाठ्यक्रम में एडमिशन लेना चाहते हैं तो उसके लिए आपका 12 वीं की परीक्षा में उत्तीर्ण होना अनिवार्य है, साथ ही शारीरिक रूप से फिट और ऊर्जावान भी जरुरी है। इन संस्थानों में प्रवेश मेरिट सूची के आधार पर होता है।

यह पोस्ट ज़रूर पढ़ें :   

धावक (Runner) बनने के लिए आवश्यक कौशल क्या है?

अगर आप धावक हैं या बनना चाहते है तो आप में कुछ गुण अनिवार्य रूप से होने चाहिए जैसे शारीरिक ऊर्जा और सहनशक्ति, उत्साह, धैर्य तथा अपने खेल के प्रति लगन ।

धावक एथिलीट के तौर पर करियर में क्या सम्भावनाएँ हैं?

खेल नौकरी के अवसरों के साथ देश के पुरस्कृत कैरियर विकल्पों में से एक है। आप एक धावक के तौर पर स्कूल और कॉलेज स्तर पर अपना कैरियर शुरू कर सकते हैं फिर क्षेत्रीय स्तर और राज्य स्तर, पर दौड़ना शुरू कर सकते हैं और फिर राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी अवसर बना सकते हैं। वास्तव में एक सक्रिय धावक एथिलीट होने के अलावा आप खेल विपणन, कोचिंग, एथलेटिक प्रशासन, खेल चिकित्सा, खेल मनोविज्ञान आदि क्षेत्रों में भी अपना करियर आजमा सकते हैं।

हमें उम्मीद है कि इस पोस्ट “दौड़ (Running) में करियर कैसे बनाएँ” के जरिये आपके धावक बनने के सपने को और भी गति मिलेगी तथा यह पोस्ट आपको एक स्पोर्ट्स व्यक्तित्व के रूप में करियर सवारने में आपकी मदद करेगा। इसी तरह की अन्य करियर संबंधित जानकारी पढ़ने के लिए  हमें  सोशल  मीडिया पर फ़ॉलो करें  Facebook – Youtube इस पोस्ट से जुड़ी किसी भी अन्य जानकारी के लिए आप हमसे कमेंट के माध्यम से संपर्क कर सकते है। धन्यवाद!