एसडीओ (SDO) क्या होता है कैसे बनें

नमस्कार दोस्तों! careerinhindi.com में आपका स्वागत है। हमें पूरी उम्मीद है हमारे जानकारीपूर्ण पोस्ट से आपको और आपके करियर को मनचाही ऊँचाई पाने में निश्चित ही मदद मिली होगी। हमारे आज के इस पोस्ट “एसडीओ (SDO) क्या होता है कैसे बनें” के जरिये हम आपको बतायेंगे कि आप एसडीओ कैसे बन सकते हैं। सम्पूर्ण जानकारी के लिए पोस्ट को अंत तक जरुर पढ़े ।

एसडीओ (SDO) क्या होता है कैसे बनें
एसडीओ (SDO) क्या होता है कैसे बनें

एसडीओ (SDO) क्या होता है कैसे बनें

एसडीओ एक सरकारी पद है, जो देश के हर राज्य के लगभग हर विभाग में होता है जैसे- बिजली विभाग, पुलिस विभाग, सिंचाई विभाग, आदि। देश के सभी नियमों में प्रत्येक शहर और जिले में एक एसडीओ की नियुक्ति की जाती है, जो है सरकारी तंत्र के सुचारू ढंग से चलाने के लिए जिम्मेदार होत्ते है। एसडीओ का मतलब होता है सब डिवीज़न ऑफिसर जो लगभग हर सरकारी विभाग में नियुक्त किया जाता है, यह एक डिवीज़न स्तर का अधिकारी होता है, जो कई प्रकार के कार्य करता है। हर जिले को छोटे-छोटे खंडों में प्रत्येक सरकारी विभाग के अधिकारियों की नियुक्ति एसडीओ ही करता है। इन अधिकारियों का काम डिवीज़न स्तर पर सरकारी कार्यों का सही ढंग से संचालन करना होता है।

एसडीओ (SDO) के रूप में करियर कैसे बनाएं ?

अगर आप एसडीओ बनकर सरकारी नौकरी पाना चाहते हैं तो एसडीओ के चयन प्रक्रिया के बारे जाने। एसडीओ का चयन सरकार द्वारा दो तरीके से किया जाता है। पहला तरीका है विभागीय पद्दोनती, विभाग के छोटे अधिकारी को उनके उत्कृष्ट कार्य के लिए एसडीओ के रूप में पदोन्नत किया जाता है ।  दूसरी ओर, सरकार इन पदों के लिए भर्ती निर्देशित करती है। जिसके लिए परीक्षा भी आयोजित की जाती है।

एसडीओ अधिकारी का चयन राज्य सरकार के अधीन होता है। राज्य सरकार एसडीओ को पीएसई  (लोक सेवा आयोग) की परीक्षा के माध्यम से चुनती है। हर साल लगभग हर राज्य लोक सेवा आयोग एसडीओ के चयन के लिए परीक्षा आयोजित करती है।

एसडीओ (SDO) बनने के लिए न्यूनतम योग्यता क्या है ?

एक एसडीओ अधिकारी बनने के लिए, आपकी उम्र 21 से 30 वर्ष के बीच होनी चाहिए। एसडीओ परीक्षा में उपस्थित होने के लिए, आपके पास संबंधित क्षेत्र में स्नातक की डिग्री का होना अनिवार्य है। यह परीक्षा दो चरणों में आयोजित होती है।

  • प्रारंभिक परीक्षा : इस परीक्षा आप से सामान्य ज्ञान, गणित, तर्क आदि से संबंधित अधिकतर वैकल्पिक प्रश्न पूछे जाते हैं, इस परीक्षा को पास करते ही आप दूसरे चरण की परीक्षा में बैठने के पात्र होते है।
  • दूसरा चरण : इसमें पहले चरण में उत्तीर्ण होने वालों को ही बुलाया जाता है। यह एक लिखित परीक्षा होती है, जो प्रारंभिक चरण की तुलना में थोड़ा कठिन होता है।
  • साक्षात्कार : उपरोक्त  परीक्षाओं  में उत्तीर्ण होने वाले उम्मीदवारों को अंतिम चरण में साक्षात्कार के लिए बुलाया जाता है। साक्षात्कार में उम्मीदवार के प्रदर्शन के आधार पर एसडीओ (SDO)  पद के लिए सफल उम्मीदवार का चयन किया जाता है।

एसडीओ (SDO) के क्या कार्य होते है ?

एसडीओ अपने विभाग का सबसे बड़ा अधिकारी होता है, जिसमें इसके विभाग के अन्य सभी छोटे अधिकारी अपने काम के लिए एसडीओ के प्रति जवाबदेह होते हैं। एसडीओ तहसीलदार और अन्य अधिकारियों की मदद से अपने क्षेत्र के विकास कार्यों की देखरेख भी करता है। पूरे जिले में एक डीएम की जो भूमिका होती है, वही उसके डिवीज़न में एक एसडीओ की होती है।

एसडीओ (SDO) का वेतन कितना होता है ?

आमतौर पर, एक एसडीओ का मासिक वेतन लगभग 23,640 रुपये हो सकता है, जिसमें अलग से भत्ते और ग्रेड शामिल होते हैं, जो शुरू में नए भर्ती किए गए एसडीओ अधिकारी को दिया जाता है। सभी सुविधाओं और भत्तों को एक साथ जोड़ने के बाद एक एसडीओ का वेतन लगभग 51,378 रुपये प्रति माह हो जाता है।

हमें उम्मीद है कि इस पोस्ट “एसडीओ (SDO) क्या होता है कैसे बनें” के जरिये आपको एसडीओ की नौकरी से जुड़ी हर छोटी छोटी बात पता चली होगी जो कि आपको आपका करियर सवारने में आपकी मदद करेगी। इसी तरह की अन्य करियर संबंधित जानकारी पढ़ने के लिए  हमें  सोशल  मीडिया पर फ़ॉलो करें  Facebook – Youtube इस पोस्ट से जुड़ी किसी भी अन्य जानकारी के लिए आप हमसे कमेंट के माध्यम से संपर्क कर सकते है । धन्यवाद!